Thursday, 26 December 2019

नारियल की महिमा (Nariyal ki mahimaa)

लेखक – तरोड़ी सुरेश
हिन्दी अनुवाद – पूजा धवन


भारतीय संस्कृति में दैनिक जीवन में उपयोग की जाने वाली कई सामग्रियों और विशेष रूप से पूजा (पूजा), त्यौहारों, समारोहों और यहां तक कि गैर-आनन्दकारी गतिविधियों पर भी महत्व देने वाले कई अनुष्ठान हैं। उपयोग की जाने वाली कई सामग्रियों में से, जो प्रत्येक अवसर पर अलग-अलग होती है, सबसे श्रेष्ट है नारियल के विभिन्न भागों का उपयोग । नारियल उस पेड़ के किसी भी हिस्से के लिए उपसर्ग बन जाता है, उदाहरण के लिए नारियल पानी, नारियल क्रीम, नारियल तेल, नारियल कॉयर, नारियल झाड़ू, आदि। हमारे देश में, नारियल और उसके विभिन्न भागों में, इसका अनूठा अर्थ है - भोजन सामग्री, दवा, दान, पूजा में प्रसाद आदि के रूप में। नारियल तीनों हो सकते हैं: एक गिरी, एक अखरोट और एक बीज। 'अखरोट' इतना लोकप्रिय है; यह किराने या सामग्री की पूजा के लिए खरीदारी करते समय एक सह-व्यापारी के रूप में प्रस्तावित हो जाता है। नारियल के 'नट' को अन्य नट्स जैसे बीटल नट, ग्राउंड नट, काजू, अखरोट आदि या अन्य फलों या सब्जियों से मिश्रित नहीं करना चाहिये । नारियल का हर भाग दैनिक जीवन में उपयोग किया जाता है। इसी कारण से, नारियल को "जीवन का वृक्ष" कहा जाता है और पेय, फाइबर, भोजन, ईंधन, बर्तन, संगीत वाद्ययंत्र और अन्य वस्तुएं पैदा कर सकता है। इस प्रकार नारियल के पेड़ को 'कल्प-वृक्ष' (कामना पूर्ण करने वाला दिव्य वृक्ष) के रूप में संदर्भित और सजाया जाता है। इसी कारण से यह सबको आश्चर्यचकित कर देता है किन्तु यह महत्वपूर्ण स्थान केवल नारियल के लिए क्यों? भारतीय पाक में नारियल खाना पकाने के लिए सर्वोत्कृष्ट सामग्री बन जाता है। यह षड्रस (छह स्वाद) के साथ बहुत अच्छी तरह से मिश्रित हो जाता है। यह सुखद है और संगत भी है। यह गुण इसे एक सार्वभौमिक घटक बनाता है। अपने सुखद और शांत गुणों के कारण नारियल का औषधीय महत्व है। यह वात और पित्त को नियंत्रित करने के लिए जाना जाता है; इसके अतिरिक्त्, जब बाहरी रूप से लागू किया जाता है, तो यह त्वचा रोगों में भी प्रभावी है। यह हमारे शरीर को सक्रिय करने के साथ-साथ मस्तिष्क के कार्यों में सुधार करने में लाभकारी है। नारियल का जल (डाब) वात निवारक होता है । यह भी संभव है कि प्रकृति में अन्य सामग्रियां भी हो सकती हैं जिनमें नारियल के समान गुण हो ।


हमारे ऋषियों ने नारियल की महानता के कई कारणों का पता लगाया है। एक कन्नड़ कहावत कहती है "तलये तेंगिनकायि नारायण, बरले बाळॆहन्नु नारायण" - जब यह दशांश होता है, तो इसका अर्थ है, सिर ही नारियल है और उंगलि ही केला । हमारे शरीर में ही नारायन हैं – वह है हमारे सिर और नारियल । हमारा सिर आत्मज्ञान का केंद्र है और इस प्रकार शरीर का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है। नारियल के दो हिस्सों की तुलना मस्तिष्क के दो भागों (बाएं और दाएं) से की जाती है। ज्ञानियों ने अपनी शिखा (बालों का गुच्छा) "ज्ञानमयी शिखा" का प्रदर्शन किया । इसी तरह, नारियल के गुच्छे को उनके गुच्छे के प्रतिनिधि के रूप में देखा जा सकता है। इसके दोनों खंडों में भ्रूमध्य केंद्र (नेत्र-भौंह के बीच का योगिक केंद्र) और सहस्रार चक्र ("हजार पंखुड़ियों वाला" या मुकुट चक्र) होता है । नारियल का सार सहस्रार चक्र जैसा अत्यन्त मधुर है । आध्यात्मिक आकांक्षी इन दो आध्यात्मिक केंद्रों के बीच दिव्य लिंगाकार में समस्त विश्व के मूल का दर्शन कर सकते हैं । यह भक्ति के माध्यम से प्राप्त किया जाता है । इसी प्रकार्, नारियल अपने दो हिस्सों के बीच सुखद उत्तमांश/ मलाई और दूध रखता है । ज्ञानियों को, सामान्य के विपरीत, तीसरे नेत्र के प्रकार एक सूक्ष्म भावना होती है । यह दिव्य-ज्ञान का आधार है और गहन ध्यान की अवधि में उत्तेजना पर खुलता है। इसी के समान एक तीसरा नेत्र नारियल में भी उपलब्ध है। एक पके हुए नारियल में तीसरे नेत्र के स्थान पर, कदाचित, बीज के समान एक छोटा फूल प्रत्यक्ष हो सकता है। यह एक बाल पौधा है । इसे बड़ी श्रद्धा के साथ सिर पे रखते हैं । यह विश्व के बीजरूप लिंग का प्रतीक है | श्रीरंगमहागुरु ने स्पष्ट रूप से बताया कि निपुण आकांक्षी भ्रूमध्य केंद्र में इस बीज जैसे लिंग का दर्शन कर परमानंद का अनुभव करते हैं।

नारियल के पेड़ का प्रत्येक भाग - खोल, पत्तियां, तना, गुच्छा, फ्रैंड्स - इसे बहुमुखी और इच्छा-पूर्ण दिव्य पेड़ बनाने में उत्पादक उपयोग होता है। ऐसे एक कल्पवृक्ष का फल हैं नारियल | इसी तरह भगवान के संकल्पवृक्ष का फल होता है - चारों पुरुषार्थ | नारियल चार पुरुषार्थों (पीछे की वस्तु) - धर्म (अधिकार अनुशासन), अर्थ (सही संसाधन), काम (सही इच्छा) और मोक्ष (बंधन से मुक्ति) के लिए एक आकार है। इन पुरुषार्थों को प्राप्त करना प्रत्येक व्यक्ति का जन्म-अधिकार है। दिव्य प्रसाद से पहले नारियल फोड़ना आवश्यक है। इसी प्रकार, ध्यान में मन को भिगोने और ज्ञान प्राप्त करने के लिए सिर में स्थित सहस्रार को प्रभावित किया जाना चाहिए। ऋषियों ने घोषणा की है कि नारियल एक धन्य, देवता प्रसन्नता दिलाने वाली - दिव्य और शीघ्रफलकारी सामग्री है। लेकिन इन सब बातों से खोकला नारियल अन्वय नहीं हो जाता | यह नारियल है जो हमारे अंदर और बहार के जीवन का दर्पण है और प्रकृति का संस्करण करते हुए सर्वोपकारी है । तथा वहअपने गुणों के लिये भारतीय संस्कृति में सम्मान का स्थान प्राप्त करता है।

सूचन : इस लेख का कन्नड़ संस्करण AYVM   ब्लॉग पर देखा जा सकता है I


To know more about Astanga Yoga Vijnana Mandiram (AYVM) please visit our Official Website and Facebook page: